By using our website, you agree to the use of our cookies.

Category: Poetry

school education
Poetry

School Education: स्कूली शिक्षा का महत्व और प्रभाव 

School Education जीवन में स्कूली शिक्षा (school education) का महत्व और प्रभाव दीर्गगामी होता है। एक बच्चा पारिवारिक परिवेश से समाज में विलेयता की ओर स्वंयम और समाज के उत्थान…

Poetry

समय की विवशता 

इस राह से गुजरती है बहुत सी बसे , कारे और दुसरे वहान कितना मुशकिल है छोटी सी दूरी तय कर पाना उसके लिए घंटो बीत जाते हैं इंतजार में…

Poetry

प्रथम नवरात्रि पूजन और मेरा बेसन का हलुआ 

सर्व प्रथम नवरात्रे पर्व पूजन की आपको बहुत- बहुत शुभकामनायेँ ! गृह स्वामिनी के व्रत अनुरोध को नकारते हुए विद्रोह का स्वर अति उन्मुख करते हुए हमने कह दिया की…

Poetry

कोई लोगो से दिल मिलाने का हूनर भी तो देदे 

कोई हमे जीने का बहाना तो दे कोई हमारा हमसे चैन तो छीन ले कोई तो ख़्वाबो में भी आये हमारे कोई नींद हमारी भी तो हमसे छीन ले मैं तो बहका बहका…

Poetry

क्या बड़े नोटों का चलन बंद करना मोदी सरकार की नितियों का हिस्सा है? 

भारत सरकार ने आज दिनांक ८ नवम्बर २०१६, रात १२ बजे से, आधिकारिक रूप से ५०० रुपए और १००० रुपए का व्यापारिक रूप में चलन को निषेध कर दिया है…

Poetry

मेरी मास्को यात्रा- २०१४ 

बड़े ही असमंजस और दुःख के साथ कम्प्यूटर विशेषज्ञ की दुकान से वापिस लौटा, निराशा की किरण ने दस्तक तो दी लेकिन स्वयं की आशावादी प्रकर्ति ने उसको अंदर आने…

Poetry

मेरे बचपन की होली 

मेरे बचपन की होली याद करते ही, ह्रदय बड़ा उत्साह और उमंग से भर जाता है, मन में अनेको विचार, रक्त में नयी ऊर्जा का जैसे संचार होने लगता है।…

Poetry

मेरी पसंद बेसन का हलुआ और महाशिवरात्रि पर्व 

सर्व प्रथम महाशिवरात्रि  पर्व की आपको बहुत- बहुत शुभकामनायेँ ! गृह स्वामिनी के अनुरोध को नकारते हुए विद्रोह का स्वर अति उन्मुख करते हुए हमने कह दिया की आज व्रत…

Poetry

भीख मांगने पर प्रयोग 

भारत जैसे देश की रचनात्मक प्रकृति ही है जहाँ देश में बच्चे शिक्षा और साधनो के अभाव में भीख मांगने पर  प्रयोग करते है। सामाजिक जीवन में कई बार इन दर्शयों…

Poetry

समर्पण 

समर्पण करना चाहता हूँ ,  तुमको  आँसू , वेदनाएँ  असहाए पीड़ा , भूख  ईर्ष्या-द्वेष  और रिश्तो में छिपायी हुई  नफरत, ठहाको के पीछे, खड़े , शोषण के विचार ।  मानसिक…

Poetry

संसार के सबसे बड़े जनतंत्र की संसद 

पिछले सालो से देश में संसद के अंदर, संसद के प्रतिनिधियों का व्यवहार, उनकी कार्य प्रणाली, स्पीकर महोदय के प्रति उनका रवैया और किसी भी मुददे पर उनका आपसी टकराव,…

Poetry

प्लेटफॉर्म 

यूँ तो अक्सर सफर में छोटे बड़े प्लेटफार्म निकलते जाते हैं लेकिन रुक जाती हैं आँखे ये नज़र क्षण भर के लिए टाट -पट्टियों से लिपटे समाज पर शरीर के…

Poetry

तेरा शहर ! 

कुछ तो चाँद पहले से ही अँधेरे में निकला था  कुछ चाँदनी ने घूँगट ओढ़ लिया  कुछ तो पैर फैलाने के लिए पहले ही जगह कम थी, तेरे शहर में  कुछ मयख़ाने…

Poetry

विरहा 

तुम बिन सावन सूना  सूना मेरे मन का कोना है  कोयल बोले , मनवा डोले  विरहा आग जलाती है  तुम रूठे, सपने टूटे  सावन भी कांटे चुभाता है  हरे -हरे…

Poetry

दहशत 

  अँधेरे रास्तो से    गुजरी जो एक परछायी  दरवाजे बंद हो गए  सहमा-सहमा सा आसमान सहमी -सहमी सी रात हो गयी        खौफ था आँखों में  …

Poetry

वक़्त 

कौन ठहरा है  वक़्त के सैलाब के आगे  जब भी कोई दौर गुजरा  एक खण्डर की पहचान दे गया 

Poetry

बचपन 

  बचपन , खुशियों से भरा    कुछ रोना , कुछ हँसना  कुछ खाना , कुछ खेलना  दिन में सोना, रात में सोना  माँ की ममता  उसका फटकारना  लोरी सुनाना …

Poetry

सौन्दर्यता 

सौंदर्य,  सौंदर्य से ही विलासिता  जीवन का एकाकीपन  और वैराग्यता  सौन्दर्यता प्रकर्ति की  स्त्री की सौन्दर्यता रेगिस्तान में तपती रेत की  पतझड़ में सूखे पत्तो की  काले बादलो में  दौड़ती बिजली की सौन्दर्यता…

Poetry

लक्ष्य 

बाधा हो पग- पग पर  ह्रदय में हो आशा  चेतन हो कितना भी आहत  विश्राम नहीं पथ पर  उज्जवल हो अभिलाषा  थक कर चूर हुए कभी  श्रम पथ पर  तो…

Poetry

प्रेरणा 

पग – पग हो बाधा   पर लक्ष्य देखना  आगे बढ़ जाना  गीता सार यहीं  प्रत्यक्ष समाना  आहत हो तो   फिर चल जाना  एकरूप देखना  आत्मविश्वास जगाना  ह्रदय में मात्र  एक भाव प्रेम रख …

Poetry

यौवन 

यौवन चंचल,  है मदभरा  भँवरे की गुंजन  फूलो की खशबू  दौड़ते -भागते हिरनों  सागर की उठती लहरो  सतरंगी इन्द्रधनुष  क्षितिज को छूने वाला  मनमोहक हरा- भरा  यौवन चंचल है यौवन उत्सुकता है …

Poetry

बूढ़ा पैड सो गया ! 

खड़ा हूँ,  सूखे पैड सा,  मेरी शाखाओ पर रहने वाले  सारी रात चिं -चिं और  उछल -कूद करने वाले  पक्षियों ने अब घोंसले  दूर कहीं बना लिए है  हवा के झोंके…

Poetry

रिश्तो का दर्द 

अब तो आदत सी हो गयी है  तुम बिन जीने की  रिश्तो के दर्द भी  अंधेरो में पीने की  गिर जाता हूँ हर रोज़  साँवली शाम के आँचल में  तो…

Poetry

पत्थर बनूँ कैसे ? 

मिट्टी हूँ मै अभी  पत्थर बनूँ  कैसे ? बिखर ना जाऊं  ज़र्रे-ज़र्रे में कहीं  इस ज़र्रे को  पत्थर बनाऊं कैसे ?  ख़ामोश है वो  क्योंकि भगवान है वो  किसी शिल्पकार के हाथो  तराशा…

Poetry

स्कूल का पी-ओन सी -ऑफ रोबोट सूरज 

स्कूल का पी-ओन  सी -ऑफ रोबोट सूरज  सवेरे ८ बजे आकर  खोल देता है दफ्तर  व्यवश्थित कर अपनी पैन्ट्री  पानी की बोतले, गिलास आदि  अध्यापक कक्ष में रख देता है सजाकर।…

Poetry

दामिनी 

दामिनी वेदना झकजोर गयी हो आत्म मंथन के लिए छोड़ गई हो कब तक देखें मरते हुए, नारी को गाँवो से लेकर शहर की सड़को तक खेत से लेकर ,दफ्तर…

School peon
Poetry

स्कूल का पिओन रोबोट – सी ऑफ टू सूरज 

 सुबह का समय  सूरज, सवेरे सुबह ८ बजे आकर ही दफ्तर खोल देता है और सबसे पहले ताजा पानी भरने का काम करता है। अपनी पेन्ट्री को साफ़ व्यवस्थित करने…

Poetry

यहाँ जख्मों को बाँटने का रिवाज़ चला है कुछ जख़्म हरे हो तो उन्हे बेच दिया करो 

यहाँ जख्मों को बाँटने का रिवाज़ चला है  कुछ जख़्म हरे हो तो उन्हे बेच दो  ये बेमौसमी जख्मे सामान बिक जाएगा  यूँ ही सोच- सोच कर वक़्त ज़ाया ना…

Poetry

कोई परखने वाला नहीं मिला 

तुझसे मिलकर भी  बिछुड़ने की भूल करता रहा  हर शाम तन्हा तन्हा बात करता रहा  मै सीख तो लेता गलतियों से  तुझसे बढ़कर भी मगर मुझे  कोई परखने वाला नहीं मिला  सुशील…

Poetry

क्यों मुनासिब यूँ तेरा शहर लगा 

मेरी हसरते तेरे मुकाम की मोहताज नहीं  मै जीता हूँ की बस साँसो को  आने- जाने का ख्याल होता रहे   मुझे किसी के दिल की आवाज अक्सर  दस्तक तो देती है   क्यों यूँ मै हर…

Poetry

गुजरते लम्हे भी पूछने लगे है अब बीती हुई अँगड़ाईयो पे सवाल 

तेरे इश्क़ में बेख़बर  हूँ कि  कुछ दरवाज़े यूँ तलाश रहा हूँ  जो इस गली इस शहर में नहीं मगर  तेरी जुस्तजू में हर चीज़ जहाँ  मै दिल के आईने…

Poetry

श्री कृष्णा जन्माष्ठमी: एक व्रत सांसारिक कर्तव्य एवं धर्म निष्ठां के लिए 

(रिफरेन्स:yogeshvara.deviantart.com से साभार ) भारतीय परम्पराओ में कुछ खास अवसरों पर व्रत रहना एक सामाजिक और राष्ट्रिय प्रचलन रहा है । कुछ ऐसे ही अवसरों पर जब परिवार के सभी…

Poetry

क्यों ज्ञान का आकलन आज प्रतिशत में बदल गया ? 

अच्छा चरित्र और अच्छा स्वास्थ्य दोनों के साथ कक्षा ५ से कक्षा ६ में प्रवेश हो गया। प्राथमिक विधालय में कक्षा ५ तक प्रति-दिन सुबह प्रार्थना के बाद और छुट्टी…

Poetry

गाय का निबन्ध 

याद आता है की कक्षा ५  तक  हिंदी और अंग्रेजी दोनों में ही अध्यापक गाय के निबन्ध पर बहुत जोर दिया करते थे। गाय का निबन्ध वार्षिक परीक्षा में तो…

Poetry

मेरी मास्को यात्रा- २०१४ 

बड़े ही असमंजस और दुःख के साथ कम्प्यूटर विशेषज्ञ की दुकान से वापिस लौटा, निराशा की किरण ने दस्तक तो दी लेकिन स्वयं की आशावादी प्रकर्ति ने उसको अंदर आने…

Poetry

जीवन में स्कूली शिक्षा का महत्व और प्रभाव 

जीवन में स्कूली शिक्षा का महत्व और प्रभाव दीर्गगामी होता है। एक बच्चा पारिवारिक परिवेश से समाज में विलेयता की ओर स्वंयम और समाज के उतथान की ओर एक कदम…

Poetry

भीख मांगने पर प्रयोग 

  भारत जैसे देश की रचनात्मक प्रकृति ही है जहाँ देश में बच्चे शिक्षा और साधनो के अभाव में भीख मांगने पर प्रयोग करते है। सामाजिक जीवन में कई बार…

Poetry

प्रसन्नता के लिए प्रयासरत । 

मैंने स्वयं को सुशील, साधारण और विकास के लिए प्रयत्नशील बने रहने का भरपूर प्रयास किया है। परमशक्ति परमात्मा में विश्वास रखते हुए अपने कार्यों की आहूति विज्ञान के हवन…

Poetry

मुझे भारतीय होने का गर्व है 

मेरा भारत महान । मुझे भारतीय होने का गर्व है ।  मुझे भारतीय कहने में जो आत्मविश्वास उत्पन्न होता है उतना ही इंडियन कहने में गुलामी का बोध होता है।…

Poetry

वोट जरूर करे और उस व्यक्ति के लिए करे जो विश्व पटल पर भारत देश का सक्षम नेतृत्व कर सके 

मेरे देश के युवाओ पर आजकल सभी की नजरे टिकी है, युवा शक्ति का रचनात्मक प्रयोग होगा, देश के विकास में तो बहुत अच्छा है। लेकिन आज सत्ता उपभोग के…

Poetry

मुमकिन है मेरे क़त्ल का हिस्सेदार होगा वो 

मुमकिन है मेरे क़त्ल का हिस्सेदार होगा वो पूछ ही लेंगे अबकी बार मेरी कब्र पे जब चिराग जलायेगा वो बड़े अरमानो से दिल में सजाया था उसको क्यों दर्द…

Poetry

दर्द पलकों पे 

झुका के गर्दन जो  हम  निकले गली से  वो समझे  बेसहारा, मायूस हो गए  उनको खबर क्या  हम दर्द पलकों पे उनका  कितना उठा ले गए  तरसते थे पहचान को…

Poetry

एतबार 

जिंदगी ने कल हमसे  सवाल कर ही लिया  कितने मुखोटे हैं तुम्हारे पास ? क्यों अपना  अस्तितत्व खो दिया ? हर इंसान से दिखावा  हर इंसान से अलग व्यवहार फिर…

Poetry

इश्क़ में इम्तिहान 

तुम उड़ो खुले जहान में  चाहे जहाँ जी भर के  आके बैठना मगर  मेरे घर कि छत पे  दीदारे अक्ष तेरा करता रहूँगा मेरी जिंदगी की शाम ना  हो जाये जब…

Poetry

अंधेरो में चाँद -सितारो की रोशनी 

जीवन पथ है खुशियों से भरा  इस पथ पर तुम चलते जाना  फूलो सी मुस्कान मिलेगी  नदियों सी चंचलता मिलेगी  आ जाये बादल काले कभी  तो शबनम सी बूंदे भी…

Poetry

पहचान 

कौन ठहरा है  वक़्त के सैलाब के आगे  जब भी कोई  दौर गुजरा  मेरे जीवन को भी  एक खण्डर की  पहचान दे गया

Poetry

दर्द 

जिंदगी ने हमसे  कुछ यूँ  फांसला बना लिया  चेहरे पे हँसी दे दी  और आँखों से  उजाला छीन लिया  रोने को चाहे तो  रो दे मगर  आँसुओ ने भी  ना…

Poetry

तेरी आहट 

अंधेरो से चिरागो की हकीकत  बयाँ करने की जरुरत नहीं तेरी एक आहट ही बहुत है  मेरा घर गिराने के लिए 

Poetry

गौरी का आँचल 

ढका बादलो ने  चाँद को ऐसे  प्रियतम की राह  देखती गौरी जैसे  माथे पर बिंदिया  ऐसे दमके  चाँद ऊपर तारा जैसे चमके  चांदनी रात में  बादल ऐसे गहराए  गौरी का…

Poetry

लक्ष्य 

बाधा हो ,  हो पग-पग पर, ह्रदय में हो आशा, चेतन हो कितना भी आहत , विश्राम नहीं पथ पर , विश्राम नहीं पथ पर, हो एक उज्जवल अभिलाषा । …

Poetry

दिखावा………क्या है तुम्हारे पास ??? 

पूछा है ये सवाल  बार-बार  मेरे मन ने मुझसे  समुद्र सी गहराई  उठती हुई लहरो की  चंचलता है  तुम्हारे पास ? सोन्दर्य, यौवन से पूर्ण , भव्य  नदियो के मिलन …

Poetry

The Surrender 

समर्पण करना चाहता हूँ ,  तुमको  आँसू , वेदनाएँ  असहाए पीड़ा , भूख  ईर्ष्या-द्वेष  और रिश्तो में छिपायी हुई  नफरत, ठहाको के पीछे, खड़े , शोषण के विचार ।  मानसिक…

Poetry

Environment 

जंगल उजाड़े पशु-पक्षी मारे अब धरोहर -विरासत को मिटाना है । आधुनिकीकरण की राह में पर्यावरण उजड़ा अन्न उपजाऊ भूमि पर इमारतो का निर्माण सड़को के नाम पर लाखो-करोड़ों पैड…

Poetry

दिल सीने में , दफ़न करके, यूँ कुछ गुजरा हूँ मैं…………”buried my heart in chest,” I would have gone… 

जिंदगी ने यूँ तो मुझको , रोका है  हर मोड़ पर, दीवार बनके , “दिल सीने में , दफ़न करके,” यूँ कुछ गुजरा हूँ मैं, अक्सर तूफ़ान बनके ।  बने…

Poetry

ehsaas _Feelings 

इस कविता में एक लड़का आठ -नौ  साल  का , जो  थका , भूखा सा एक  पुरानी लम्बी सी शर्ट और फटी हुई पैंट पहेने हुए फल बेच रहा है…

WordPress Theme built by Shufflehound.  ©2019 Apni Physics by Dr. Sushil Kumar